Follow Us:

केदारनाथ धाम के कपाट शीतकाल के लिए बंद

 
kedarnath
देहरादून: केदारनाथ धाम के कपाट भैया दूज के अवसर पर आज शीतकाल के लिए बंद हो गए हैं। इस अवसर पर बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के संग उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल भी कपाट बंद होने के साक्षी बने। ग्यारहवें ज्योतिर्लिंग भगवान केदारनाथ मंदिर के कपाट बंद होने की पूजा प्रक्रिया के दौरान उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने विधि विधान से भगवान भोलेनाथ की पूजा अर्चना की। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि भगवान केदार बाबा के कपाट बंद होने की प्रक्रिया का देखने का उन्हें सौभाग्य प्राप्त हुआ है। श्री अग्रवाल ने कहा कि सेना के बैंड की भक्तिमय धुनों के साथ कपाट बंद होने की प्रक्रिया दिव्य, भव्य एवं आलौकिक थी। उन्होंने कहा कि पंचमुखी विग्रह मूर्ति छः माह के लिए विभिन्न पड़ाव से होते हुए शीतकालीन गद्दी स्थल श्री ओम्कारेश्वर मंदिर, ऊखीमठ में विराजमान होगी। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने पूजा अर्चना कर प्रदेशवासियों की सुख समृद्धि एवं खुशहाली की कामना की। श्री अग्रवाल ने कहा कि कोरोना महामारी की विकट परिस्थितियों के बीच बहुत कम समय के लिए शुरू की गई यात्रा में रिकॉर्ड तोड़ श्रद्धालु चारधाम पहुंचे हैं। जिसके लिए उन्होंने राज्य सरकार का आभार भी व्यक्त किया। श्री अग्रवाल ने कहा कि चार धाम यात्रा के सुचारू रूप से चलने से कुछ हद तक पर्यटन से जुड़े व्यवसायियों को राहत मिली है। श्री अग्रवाल ने इस दौरान बाबा केदार से कोरोना को देश से नष्ट करने के लिए प्रार्थना की। केदारनाथ धाम के कपाट बंद होने के अवसर पर पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाई पंकज मोदी, विधानसभा अध्यक्ष की धर्मपत्नी शशिप्रभा अग्रवाल, चारधाम देवस्थानम बोर्ड के सदस्य श्रीनिवास पोस्ती और आशुतोष डिमरी, देवस्थानम बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रविनाथ रमन, जिलाधिकारी मनुज गोयल, देवस्थानम बोर्ड के अपर मुख्य कार्यकारी अधिकारी बीडी सिंह, पुलिस अधीक्षक आयुष अग्रवाल, उप जिलाधिकारी जितेंद्र वर्मा, केदार सभा अध्यक्ष विनोद शुक्ला आदि मौजूद रहे।