Follow Us:

सीएम धामी से फोन पर चर्चा के बाद हरक सिंह रावत के बगावती तेवर शांत, नहीं देंगे इस्तीफा

 
dhami-hark singh
देहरादून: उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव के करीब आते ही भाजपा में अंतर्कलह खुलकर सामने आ गया है। खबर है कि पुष्कर सिंह धामी की सरकार में कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत ने बगावती तेवर अपनाते हुए पद से इस्तीफा देने की धमकी दी है। हालांकि अब उन्हें मना लिया गया है और रावत अब इस्तीफा नहीं देंगे। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक के अनुसार हरक सिंह रावत नाराज नहीं हैं और इस्तीफे का सवाल ही नहीं बनता। वहीं, विधायक उमेश शर्मा काऊ ने भी इस बात का दावा किया है। उन्होंने कहा कि कोटद्वार में मेडिकल कालेज के लिए जल्द शासनादेश जारी होगा। विधायक काऊ के अनुसार पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व के निर्देश पर उन्होंने बीती रात मंत्री रावत से बातचीत की। इस दौरान डा रावत की पार्टी के केंद्रीय नेताओं और मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से फोन पर बात कराई गई। मुख्यमंत्री ने कोटद्वार मेडिकल कालेज के जल्द शासनादेश जारी करने का आश्वासन दिया। मालूम हो कि शुक्रवार को उन्होंने इस्तीफे की धमकी देकर कैबिनेट बैठक छोड़ दी थी। वे कोटद्वार मेडिकल कालेज से संबंधित प्रस्ताव कैबिनेट में नहीं लाने से नाराज बताए जा रहे थे।
कांग्रेस में मची हलचल के बाद बीते रोज भाजपा में भी तूफान खड़ा हो गया। कैबिनेट मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत की मंत्री पद से इस्तीफे की धमकी ने भाजपा में हलचल बढ़ा दी। उधर, रायपुर क्षेत्र से भाजपा विधायक उमेश शर्मा काऊ के भी भाजपा छोड़ने की चर्चा रही, लेकिन देर रात उन्होंने इससे इन्कार किया। काऊ ने कहा कि वह भाजपा के अनुशासित सिपाही हैं। काऊ को हरक सिंह के करीबियों में माना जाता है। देर रात इस राजनीतिक घटनाक्रम को लेकर भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व भी सक्रिय हो गया। भाजपा के कई केंद्रीय नेताओं ने भी उनसे बात की। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने देर रात हरक सिंह रावत से बात की।
कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत उन विधायकों में शामिल हैं, जो मार्च 2016 के राजनीतिक घटनाक्रम के बाद कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए थे। वर्ष 2017 में भाजपा की सरकार बनने पर उन्हें कैबिनेट मंत्री बनाया गया। हालांकि, तब तत्कालीन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से उनका विभिन्न मामलों में छत्तीस का आंकड़ा रहा। उत्तराखंड भवन और अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड को लेकर उनकी और तत्कालीन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र के बीच तनातनी सुर्खियों में रही थी।
उधर, कांग्रेस की उत्तराखंड इकाई के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से तंज कसते हुए लिखा गया है, 'डूबता जहाज, भागते लोग।' साथ ही ट्वीट में दो तस्वीरें भी शेयर की गई हैं, जिनमें से एक कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत के इस्तीफे की खबर है, तो दूसरे में विधायक उमेश शर्मा काऊ के बीजेपी छोड़ने का जिक्र है।