Follow Us:

अब कारसेवा होगी तो कारसेवकों पर गोली नही पुष्पों की वर्षा होगी: योगी

 
yogi
अयोध्या: अयोध्या में पांचवें दिव्य और भव्य दीपोत्सव कार्यक्रम के सफल आयोजन से प्रफुल्लित मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अतीत के पन्ने पलटते हुए तथा तत्कालीन सपा सरकार का नाम लिए बिना कहा कि 30 अक्टूबर और दो नवंबर 1990 को रामभक्तों पर बर्बर तरीके से गोलियां चलाई गईं थीं, बर्बर लाठीचार्ज हो रहा था। उस समय जय श्रीराम बोलना अपराध माना जा रहा था। उन्होंने कहा कि जो लोग 31 साल पहले रामभक्तों पर गोलियां चला रहे थे, वो आपकी ताकत और लोकतंत्र की ताकत के आगे झुके हैं। अब लगता है कि अगर कुछ और वर्ष आप इसी तरीके से ले चले, तो अगली कारसेवा के लिए वो और उनका पूरा खानदान लाइन में लगा होगा। आप देखना कि अगर अगली कारसेवा होगी, तो गोली नहीं चलेगी। रामभक्तों व कृष्णभक्तों पर पुष्पों की वर्षा होगी। यही लोकतंत्र की ताकत है।
बुधवार को यहां ऐतिहासिक दीपोत्सव और भगवान राम के राज्याभिषेक कार्यक्रम के मौके पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अयोध्या एक नई सांस्कृतिक नगरी के रुप में विश्व में छाई है। 2023 तक मंदिर का निर्माण होना है। कोई बाधक नहीं आ सकती, क्योंकि मोदी है तो मुमकिन है। 500 तीर्थ स्थलों व मंदिरों के विकास में 300 मंदिरों का विकास हो चुका है। पहले यह पैसा कब्रिस्तान पर खर्च होता था। उन्होंने कहा कि सप्तपुरी की तर्ज पर अयोध्या का समग्र विकास हो, यह पीएम मोदी की सोच है। भव्य मंदिर के साथ अयोध्या देश दुनिया की सबसे अच्छी नगरी होगी। राम की मर्यादा सबको जोड़ने की है। उन्होंने कहा कि सबसे बड़ा है श्रीराम की मर्यादा के अनुरूप धैर्य, जिससे हमें सफलता मिली है। 2019 के कार्यक्रम में भी मैंने यही अनुरोध किया था कि धैर्य के साथ इंतजार करिये, अयोध्या में वह सब होगा जो आपकी भावनाएं हैं। पहले लोग बोलते थे, परिंदा भी पर नहीं मार सकता था। 31 साल पहले हुआ था, वह मंजर कोई रामभक्त और कोई अयोध्यावासी उसे कभी भूल नहीं सकता है।
मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि पांच वर्ष पहले अयोध्या में दीपोत्सव की चर्चा सामने आई थी, तो अयोध्या में ही आज के दिन ये आयोजन नहीं हो रहा था। हमारी सरकार ने तय किया कि अगर अयोध्या को उसकी नई पहचान दीपोत्सव कार्यक्रम से माध्यम से दिलवानी है। मुझे याद है कि 2017, 2018, 2019 में भी एक ही नारा गूंज रहा था-‘योगी जी एक काम करो, मंदिर का निर्माण करो।’ मैं तब भी कह रहा था कि मंदिर निर्माण के लिए आधारशिला तैयार की जा रही है।