Follow Us:

कांग्रेस यूपी चुनाव में किसी भी पार्टी से गठबंधन नहीं करेगी: प्रियंका गांधी

 
priyanka gandhi
बुलंदशहर: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने बुलंदशहर में कहा कि पार्टी कार्यकर्ताओं की मांग के अनुरूप कांग्रेस उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनावों में किसी भी पार्टी से गठबंधन नहीं करेगी। प्रियंका ने रैली में जनता के साथ मिलकर चुनाव लड़ने की भी बात कही। उन्होंने कहा "हम आपके साथ मिलकर उत्तरप्रदेश की जनता की लड़ाई लड़ेंगे।" अपने अभियान के तहत कांग्रेस  महासचिव  प्रियंका गांधी रविवार को बुलंदशहर पहुंची थीं। जवाहरलाल नेहरू की जयंती  के मौके पर प्रियंका गांधी ने बुलंदशहर में 3 मंडलों के 14 जिलों के 7400 पदाधिकारियों से संवाद किया।
बुलंदशहर में हो रही प्रतिज्ञा रैली के दौरान कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने साफ कर दिया कि कांग्रेस किसी अन्य दल से गठबंधन नही करेगी। गौरतलब है कि कांग्रेस ने पिछले विधानसभा चुनाव में सपा के साथ गठबंधन किया था, लेकिन उसे कोई खास फायदा नहीं हुआ था। कांग्रेस को लोकसभा चुनाव 2019 में भी तगड़ा झटका लगा था, जब पार्टी परंपरागत अमेठी सीट भी हार गई थी।
मुताबिक, प्रियंका ने कहा कि " बहुत से कांग्रेस कार्यकर्ता चाहते थे कि हम यूपी विधानसभा चुनाव में किसी भी दल के साथ गठबंधन नहीं करें और अकेले चुनाव लड़ें मैं आपको भरोसा दिलाती हूं कि हम सभी सीटों पर चुनाव लड़ेंगे और अकेले लड़ेंगे।" 
प्रियंका गांधी ने आपने भाषण में कहा, "5 सालों में कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश की जनता के हर मुद्दे पर संघर्ष किया है। महंगाई, किसानों और ग़रीबों पर अत्याचार, उन्नाव, सोनभद्र, हाथरस, सीएए एनआरसी, लखीमपुर किसान नरसंहार, काले कृषि कानूनों, दलितों पर अत्याचार इन सभी मुद्दों पर कांग्रेस ने जनता के साथ मिलकर आवाज उठाई है।" कांग्रेस महासचिव ने आगे कहा, "मैं आजादी के आंदोलन के  "करो या मरो" के नारे को पुनर्जीवित करना चाहती हूं। कांग्रेस के हरेक पदाधिकारी-कार्यकर्ता को मजबूती से इस लड़ाई को लड़ना है।"
उन्होंने कहा " हमने 5 साल तक कांग्रेस संगठन के बल पर जनता के मुद्दों पर संघर्ष किया है, हम संगठन के बल पर सभी सीटों पर मजबूती से चुनाव लडेंगे। संगठन के लोगों को आगे बढ़ाएंगे।"
इस कार्यक्रम में जिला, शहर, ब्लॉक और न्याय पंचायत के पदाधिकारी भी मौजूद रहे। पदाधिकारियों से संवाद के दौरान चुनावों की रणनीति, कांग्रेस के अभियानों, सोशल मीडिया और बूथ तक संगठन की मजबूती पर चर्चा हुई।