Follow Us:

टीएलपी नेता की रिहाई को लेकर हिंसा, इस्लामाबाद सील

 
pak tlp

- गुंजारवाला में हुई हिंसा में चार पुलिसकर्मियों की मौत, 250 लोग घायल 
इस्लामाबाद:
 पाकिस्तान में सरकार और प्रतिबंधित संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान के बीच टकराव बढ़ता जा रहा है। कट्टरपंथी नेता की रिहाई समेत चार अमांगों को लेकर टीएलपी ने इस्लामाबाद मार्च शुरू कर दिया है। लब्बैक के कार्यकर्ता मुरीद के कैम्प तक पहुंच चुके हैं। यहां से इस्लामाबाद महज 14 किलोमीटर दूर है। लिहाजा इस्लामाबाद को चारों तरफ से सील कर दिया गया है। तीन शहरों में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है। बुधवार को गुंजारवाला में हुई हिंसा में 4 पुलिसकर्मियों की मौत हो गई, जबकि 250 से ज्यादा घायल बताए जा रहे हैं। टीएलपी ने साफ कर दिया है कि अगर सरकार ने पुलिस या दूसरे सुरक्षा बलों के जरिए उसे रोकने की कोशिश की तो बड़े पैमाने पर हिंसा हो सकती है और इसकी जिम्मेदार सरकार होगी। टीएलपी की पहली मांग 6 महीने से जेल में बंद कट्टरपंथी नेता साद रिजवी को रिहा को लेकर है। सरकार इसके लिए मान गई है। इमरान सरकार का ये भी कहना है कि टीएलपी पर बैन भी खत्म किया जाएगा और उसके लोगों को रिहा भी कर दिया जाएगा, लेकिन टीएलपी फ्रांस के राजदूत को निकालने की मांग पर अड़ी हुई है लेकिन सरकार इसके लिए तैयार नहीं है। 
सरकार का कहना है कि अगर ऐसा किया गया तो मुल्क को इसके गंभीर नतीजे भुगतने होंगे। यूरोपीय देश पाकिस्तान के खिलाफ हो जाएंगे। जीएसपी प्लस स्टेटस खत्म हो जाएगा और पाकिस्तानियों का यूरोप जाना मुश्किल हो जाएगा। दूसरी तरफ टीएलपी झुकने को तैयार नहीं है। उनका कहना है कि पैगम्बर की बेअदबी के मामले में फ्रांस के राजदूत को देश से निकाला जाए। टीएलपी की स्थापना खादिम हुसैन रिजवी ने 2017 में की थी। वे पंजाब के धार्मिक विभाग के कर्मचारी थे और लाहौर की एक मस्जिद के मौलवी थे, लेकिन साल 2011 में जब पंजाब पुलिस के गार्ड मुमताज कादरी ने पंजाब के गवर्नर सलमान तासीर की हत्या की, तो उन्होंने कादरी का खुलकर समर्थन किया। जिसके बाद उन्हें नौकरी से निष्कासित कर दिया गया। जब 2016 में कादरी को दोषी करार दिया गया तो टीएलपी ने ईश निंदा और पैगंबर के सम्मान के मुद्दों पर देशभर में विरोध शुरू किया। खादिम ने फ्रांस को एटम बम से उड़ाने की वकालत की थी। पिछले साल अक्टूबर में खादिम रिजवी की मौत हो गई थी। खादिम रिजवी की मौत के बाद उनके बेटे साद रिजवी ने टीएलपी पर कब्जा जमा लिया।