Follow Us:

देश में उच्च क्षमता वाली पुलिस टेक्नोलॉजी मिशन का होगा गठन: प्रधानमंत्री मोदी

 
modi
लखनऊ: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि देश की पुलिस फोर्स के फायदे के लिए ‘इंटर ओपरेबल’ तकनीक को बढ़ावा देने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि अब गृहमंत्री के नेतृत्व में एक उच्च क्षमता वाली पुलिस टेक्नोलॉजी मिशन गठित किया जाएगा, ताकि भविष्य की तकनीक को जमीनी स्तर की पुलिस आवश्यकताओं के अनुरूप ढाला जा सके।
उप्र पुलिस मुख्यालय में आयोजित पहली बार आयोजित तीन दिवसीय 56वें देश के सभी राज्यों के पुलिस महानिदेशकों और पुलिस महानिरीक्षकों की कॉन्फ्रेंस का रविवार को समापन हुआ। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के सभी राज्यों के पुलिस संगठनों को संबोधित किया। प्रधानमंत्री ने अपराधों पर नियंत्रण के साथ ही विवेचना में तकनीक के उपयोगी पर जोर दिया। उन्होंने विवेचना और निगरानी में ड्रोन तकनीक के फायदे भी बताए। उन्होंने कहा कि आवश्यकता इस बात की है कि साल 2014 में लागू स्मार्ट पुलिसिंग को और मजबूत किया जाये। उन्होंने कहा कि पुलिस में उच्च तकनीकी शिक्षा लेकर आए युवाओं को जोड़ा जाए। उन्होंने पुलिस अफसरों को आश्वस्त किया कि तकनीक और अत्याधुनिक संसाधन पुलिस को उपलब्ध कराए जाएंगे। 
उन्होंने कहा कि हर वारदात का विश्लेषण और सीखने की प्रक्रिया जारी रहनी चाहिए। उन्होंने देश की पुलिस फोर्स के फायदे के लिए इंटर ओपरेबल तकनीक को बढ़ाने पर जोर दिया। कॉन्फ्रेंस के दौरान कारागार सुधार, आतंकवाद, वामपंथी उग्रवाद, साइबर अपराध, नारकोटिक्स ट्रैफिकिंग, गैर सरकारी संगठनों की विदेशी फंडिंग, सीमावर्ती गांवों का विकास जैसे राष्ट्रीय सुरक्षा पर चर्चा हुई। इसके लिए पुलिस महानिदेशकों के कोर ग्रुप गठित किए गए थे। प्रधानमंत्री ने कोविड महामारी के दौरान पुलिस के अच्छे व्यवहार की सराहना की। डीजीपी कॉन्फ्रेंस में देश भर के करीब 350 से अधिक वरिष्ठ अधिकारी विभिन्न राज्यों में स्थित आईबी कार्यालय से वर्चुअल माध्यम से भी जुड़े। यह सम्मेलन साल 2014 से देश के विभिन्न भागों में आयोजित किया जा रहा है।