Home > शीर्ष आलेख > फ्रांस से रवाना हुए 5 राफेल विमान, कल पहुंचेंगे भारत

फ्रांस से रवाना हुए 5 राफेल विमान, कल पहुंचेंगे भारत

फ्रांस से रवाना हुए 5 राफेल विमान, कल पहुंचेंगे भारत

नई दिल्ली: फ्रांसीसी लड़ाकू विमान राफेल जेट की प्रतीक्षा अब खत्म हुई। फ्रांस से सोमवार को 5 राफेल लड़ाकू विमानों का एक बैच भारत के लिए रवाना हो गया है। ये विमान दोपहर करीब 12:30 बजे फ्रांस के मेरिग्नाक बेस से भारत के लिए उड़ान भर चुके हैं और बुधवार को अंबाला एयरबेस पहुंचेंगे।

राफेल लड़ाकू विमानों की रवानगी के दौरान भारतीय राजदूत जावेद अशरफ भी मेरिनेक एयरबेस पर मौजूद रहे। वे इस दौरान पायलटों से भी मिले। उन्होंने राफेल उड़ाने वाले पहले भारतीय पायलटों को बधाई दी। फ्रांस से खरीदे गए इन 5 राफेल में से दो ट्रेनर एयरक्रॉफ्ट हैं और तीन लड़ाकू विमान हैं। राफेल के शामिल होने से भारतीय वायुसेना की ताकत कई गुना बढ़ जाएगी।

2021 में मिलेगा आखिरी बैच

रिपोर्ट के अनुसार, कोरोना महामारी के कारण राफेल विमानों की डिलीवरी कुछ लेट हुई है। दो दिनों के सफर में ये विमान 7 हजार किमी की दूरी तय करेंगे। विमानों में एयर-टू-एयर रीफ्यूलिंग की जाएगी। पायलटों को यूएई में ही कुछ समय आराम दिया जाएगा। पूरे सफर में एक यही स्टॉप रखा गया है, इसके बाद सीधे अंबाला एयरबेस पर इसकी लैंडिंग होगी। दिसंबर, 2021 में इसके आखिरी बैच के मिलने की उम्मीद है। राफेल को दसॉल्ट एविएशन फ्रांस ने बनाया है।

अंबाला में तैनाती होगी

पांचों राफेल की तैनाती अंबाला में होगी। अंबाला में 17वीं स्क्वाड्रन गोल्डन एरोज राफेल की पहली स्क्वाड्रन होगी। यहां से पश्चिमी सीमा पर पाकिस्तान के खिलाफ एक्शन तेजी से लिया जा सकता है। इसके अलावा अम्बाला एयरबेस चीन की सीमा से 200 किमी दूरी है। बता दें कि भारत ने सितंबर, 2016 में लगभग 58 हजार करोड़ रुपए में 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदने के लिए फ्रांस के साथ करार किया था।

राफेल की खासियत

- यह विमान विभिन्न प्रकार के शक्तिशाली हथियारों को ले जाने में सक्षम है।

- राफेल फाइटर मीटियर और स्काल्प जैसी मिसाइलों से भी लैस है।

- मीटियर विजुअल रेंज के पार भी अपना टारगेट हिट करने वाली अत्याधुनिक मिसाइल है। इसकी रेंज 150 किमी है।

- स्काल्प करीब 300 किमी तक अपने टारगेट पर सटीक निशाना लगाकर उसे तबाह कर सकती है।




Tags:    
Share it
Top