Home > राज्य > उत्तराखण्ड > शिव भक्त कांवड़ियों का धर्मनगरी में आगमन शुरू

शिव भक्त कांवड़ियों का धर्मनगरी में आगमन शुरू

 Agencies |  2017-07-08 08:23:55.0  0  Comments

शिव भक्त कांवड़ियों का धर्मनगरी में आगमन शुरू

हरिद्वारः कांवड़ मेला प्रारंभ हो गया है कावंड़ियों की आमद धर्मनगरी में होने लगी है। इस बार सावन का महीना शिव भक्त कांवड़ियों के लिए दशकों बाद ऐसा संयोग लेकर आ रहा है जिसका पहला दिन सोमवार से प्रारंभ होगा। सावन का अंतिम दिन भी सोमवार ही होगा। सावन का पहला दिन सोमवार होने से कई गुना महत्व बढ़ जाता है। शिव भक्त कांवड़ियों के लिए यह श्रावण मास निश्चित तौर पर फलदाई साबित होगा। श्रावण मास प्रारंभ होते ही कावंड़ियों की आंशिक रूप से आमद प्रारम्भ हो चुकी है। हरकी पौड़ी एवं विभिन्न गंगा घाटों से कांवड़िये जल भरकर अपने गन्तव्यों की ओर रवाना हो रहे हैं।
हरियाणा से पहुंचे संदीप, प्रदीप ने बताया कि प्रतिवर्ष भगवान शिव के नाम की कावंड़ में जल भरकर हरिद्वार से भगवान शिव का गुणगान करते हुए पैदल मार्ग से हरियाणा के लिए कूच कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि भगवान शिव की सच्ची अराधना करने से सभी मनोकामनायें पूर्ण होती है। परिवारों मंे सुख समृद्धि का आगमन होता है। कष्टों से मुक्ति मिलती है। मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है। आस्था की नगरी में पहुंचकर मन को शांति प्राप्त होती है। वहीं महिलायें भी मनोकामनाओं की कांवड़ में जल भरकर हरिद्वार से कूच कर रही है। लक्ष्मी एवं विक्रांत ने बताया कि भगवान शिव की सच्चे मन से अराधना करने से वैवाहिक जीवन में सुख का अम्बार लग जाता है। संतान की आयु लम्बी होती है सावन माह में शिव की अराधना करने से परिवारों के कष्ट दूर होते हैं। महादेव की विशेष कृपा से प्रतिवर्ष कांवड़ में जल भरकर शिवालयों में चढ़ाते हैं। श्रावण मास भगवान शिव को अत्यधिक प्रिय है इस माह प्रत्येक सोमवार के दिन भगवान शिव की पूजा करने से व्यक्ति को समस्त सुखों की प्राप्ति होती है। श्रावण मास के विषय में प्रसिद्ध एक पौराणिक मान्यता के अनुसार श्रावण मास के सोमवार व्रत करने से व्यक्ति की सभी इच्छायें पूरी होती हैं। दान पुण्य करने से भी शिव के भक्तों को फल की प्राप्ति होती है। ज्योर्तिलिंगों के दर्शन करने से अवश्य ही शिव भगवान प्रसन्न होते हैं।
--हाक न्यूजलाईन

Tags:    
Share it
Top