Home > राज्य > उत्तराखण्ड > ग्रामीणों ने भूमि अध्ग्रिहण का उचित मुआवजा न दिये जाने को लेकर प्रदर्शन किया

ग्रामीणों ने भूमि अध्ग्रिहण का उचित मुआवजा न दिये जाने को लेकर प्रदर्शन किया

 Agencies |  2017-06-10 07:54:42.0  0  Comments

ग्रामीणों ने भूमि अध्ग्रिहण का उचित मुआवजा न दिये जाने को लेकर प्रदर्शन किया

बहादराबादः बहादराबाद राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा ग्राम बढेड़ी राजपूताना में सड़क चैड़ी करने के नाम पर किसानों व ग्रामीणों की भूमि का अधिग्रहण करने के बाद भी उन्हें मुआवजा नहीं दिए जाने को लेकर गांव के किसानों ने आज नेशनल हाईवे 58 पर एकत्र होकर राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण का पुतला फूंका। इस अवसर पर पूर्व प्रमुख इंसान अली ने कहा कि ग्रामीणों व जिलाधिकारी के समझौते के बाद भी प्राधिकरण उन्हें व्यावसायिक दरों पर मुआवजे का भुगतान नहीं कर रहा है। जबकि तत्कालीन जिलाधिकारी ने एक पत्र द्वारा प्राधिकरण को उनका मुआवजा दिए जाने के संबंध में निर्देश दिए थे, लेकिन प्राधिकरण किसानों व ग्रामीणों की भूमि का मुआवजा देने में आनाकानी करता चला रहा है। ग्रामीणों ने आज एक जुट होकर यह निर्णय लिया कि जब तक प्राधिकरण उनका निर्धारित मुआवजा 7407 रुपए प्रति वर्ग मीटर की दर से अदा नहीं करता है तब तक नेशनल हाईवे चैड़ीकरण का कार्य नहीं होने दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि रोड चैड़ी करने में गांव की मस्जिद को स्थानांतरित करने में जो भी धनराशि वहन होगी वह राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा ही वहन किया जाएगा। जब तक हमारी मांगे नहीं मानी जाती तब तक यह राष्ट्रीय राजमार्ग 58 पर काम नहीं करने दिया जायेगा।
बताते चलें कि बोंगला बहादराबाद, रोहलकी व मनोहरपुर के किसानों को भी प्राधिकरण ने तय मुआवजे की रकम के अनुसार मुवावजे का भुगतान नहीं किया है जिसको लेकर यहां के किसान दो माह तक धरने पर डटे रहे थे। अनेक बार की वार्ता के बाद भी किसानों को उचित मुआवजा आज तक नहीं मिला है।
उल्लेखनीय है कि यह मार्ग 1974 में बनाया गया था जिसमे बोंगला, बहादराबाद, बढेड़ी, मनोहरपुर, शाहन्तरशाह आदि गांव के किसानों की जमीन नेशनल हाईवे के लिए अधिग्रहण की गई थी जिसका मुआवजा भी आज तक किसानों को नहीं मिल पाया है। इस बात को लेकर अब किसान प्रशासन के खिलाफ आर.पार की लड़ाई के मूड में है। आज की बैठक में गुलशेर, सरताज, इस्माइल, गुफरान, गुलशन, गुलफाम, नार सिंह, राजा उर्फ़ सलीम, गुलशेर, अहसान, रियाजुल, इम्तियाज, जहांगीर राणा, फुरकान अली, राव सानजर आदि किसान मौजूद रहे। --हाक न्यूजलाईन

Tags:    
Share it
Top