Home > राज्य > उत्तराखण्ड > जीएसटी की भ्रांतियों को लेकर गोष्ठी आयोजित

जीएसटी की भ्रांतियों को लेकर गोष्ठी आयोजित

 Agencies |  2017-06-02 07:47:25.0  0  Comments

जीएसटी की भ्रांतियों को लेकर गोष्ठी आयोजित

हरिद्वारः जीएसटी के सरलीकरण एवं भ्रान्तियों को लेकर संगोष्ठी आयोजित की गई जिसमें कर अधिकारी द्वारा व्यापारियों को जी,सटी की विभिन्न जानकारियों से डिप्टी कमीश्नर अनुराग मिश्रा, डिप्टी कमीश्नर रोशन लाल, सहायक कमीश्नर शिवानी त्रिपाठी, कर्मिशियल टैक्स ऑफिसर अनिल कुमार अरोड़ा ने अवगत कराया। व्यापारियों द्वारा कई सवाल वाणिज्य कर अधिकारियों से भ्रांतियों को लेकर किये गये व्यापारी संजीव नैयर ने कहा कि जीएसटी व्यापारियों के लिए हितकारी होना चाहिये व्यापारियों को किसी भी प्रकार की दिक्कतें ंनहीं होनी चाहिये। वाणिज्य कर विभाग के अधिकारी समय.समय पर व्यापारियों से मधुर तालमेल से जीएसटी की जटिलताओं को व्यापारियों के समक्ष रखते हुए निदान के कार्य किये जाये समय-समय पर सम्बन्धित अधिकारियों द्वारा छोटे एवं बड़े व्यापारियों के समक्ष आने वाली दिक्कतों को भी हल किया जाये जिससे जीएसटी के दायरे में आने वाले व्यापारियों का किसी भी प्रकार का उत्पीड़न नहीं होना चाहिये।
ज्वालापुर व्यापार मण्डल के व्यापारी अरविन्द मंगल ने अधिकारियों से जीएसटी की विभिन्न जानकारियां ली उन्होंने कहा कि सबसे पहले विभागीय अधिकारियों को जीएसटी के दायरे में आने वाले व्यापारियों के बीच जनजागरूकता फैलायी जाये क्योंकि जीएसटी को लेकर व्यापारियों मंे डर भय का माहौल बना हुआ है। उन्होंने कहा कि क्योंकि आम व्यापारी जीएसटी की जटिलताओं से अनभिज्ञ हैं। बैठक में श्रीराम आहूजा, राजन मेहता ने भी व्यापारियों को जीएसटी की विभिन्न जानकारियों को रखा। उन्होंने कहा कि व्यापारियों को जीएसटी से घबराना नहीं चाहिये। सभी भ्रांतियों को जल्द से जल्द दूर किया जायेगा। अधिकारियों को समय-समय पर व्यापारियों के बीच लाकर जीएसटी की दिक्कतों को हल करने के प्रयास किये जायेगें। महानगर व्यापार मण्डल के जिलाध्यक्ष सुनील सेठी ने कहा कि जीएसटी से इंसपेक्टर राज नहीं आना चाहिये। साथ ही वाणिज्य कर अधिकारियों को होटलों मंे बैठकर मात्र बैठकों से जीएसटी की जटिलतायें समाप्त नहीं हो पायेगी इसको लेकर जनजागरूकता फैलानी होगी। आम व्यापारियों को होटलों में होने वाली बैठकों से लाभ नहीं मिल रहा है। बाहर निकलकर व्यापारियों को जनजागरूक करना होगा।

--हाक न्यूजलाईन

Tags:    
Share it
Top