Home > राज्य > उत्तराखण्ड > खनन बन्दी से क्षेत्रवासियों को भवन निर्माण के लिए रेत व बजरी नहीं मिल रही है

खनन बन्दी से क्षेत्रवासियों को भवन निर्माण के लिए रेत व बजरी नहीं मिल रही है

 Agencies |  2017-04-27 07:58:45.0  0  Comments

खनन बन्दी से क्षेत्रवासियों को भवन निर्माण के लिए रेत व बजरी नहीं मिल रही है

बहादराबादः खनन बन्दी से एक ओर जहॉं क्षेत्रवासियों के सामने अपने भवन निर्माण को लेकर भारी दिक्कतो का सामना करना पड रहा है वहीं दूसरी ओर स्टोन क्रेशरों की मौज आ गई है।
उल्लेखनीय है कि इस समय क्षेत्र में नये भवन बनाये जाने व पुराने भवनों की मरम्मत का काम पूरी तरह ठप हो कर रह गया है। खनन के बन्द होने से स्टोन क्रेशरों पर रेत, बजरी नहीं मिल रही है जबकि स्टोन क्रेशरों पर भारी मात्रा में रेत व बजरी का स्टाक जमा है। परन्तु थोड़ी मात्रा में रेत आदि खरीदने वालों को यहॉं से रेत बजरी नहीं मिल पा रही है। यदि मिलती भी है तो स्टोन क्रेशर मालिक बहुत अधिक दर पर ग्राहकों को रेत आदि बेच रहे हैं। आम जनता रेत आदि के न मिलने से भवन बनाने के कार्य को पूरा भी नहीं करा पा रही है। अब जनता को आगामी बरसात के मौसम में आधे अधूरे पडे़ भवनोे को लेकर चिन्ता सताने लगी है कि कहीं बरसात में उनके आधे अधूरे बने भवन जमीन पर न आ गिरें। यह तो स्टोन क्रेशरों की स्थिति है। वहीं प्रशासन की लाख कोशिशों के बाद भी अवैध खनन माफिया लगातार नदियांे का सीना छलनी कर रहे हैं। प्रशासनिक टीमंे भी लगातार छापेमारी कर रही हैं परन्तु खनन माफिया खनन करने से बाज नहीं आ रहे हैं। हाल ही मे पथरी क्षेत्र से हो रहे अवैध खनन के कारण ही एस.एस.पी. वी.के.कृश्ण कुमार एस ने पूरी चौकी को ही सस्पैण्ड कर दिया था। पुलिस की नाकामी का आरोप पहले से ही लगता आया है। पुलिस की मिली भगत से ही अवैध खनन का काम चलता आ रहा है। अब खनन माफिया बड़े वाहनों के स्थान पर झोटा बुग्गी की सहायता से नदियों से रेत बजरी का खनान कर उन्हे महंगे दामों पर क्षेत्रवासियों को बेच रहे हैं। जनता मजबूरी मे ही ऐसे माफियाओ से रेत बजरी खरीद ने को मजबूर हो रही है। क्षेत्रवासी विनोद कुमार कुवंरपाल सिंह चौहान दिनेश कुमार कुशल कुमार आदि ने बताया कि वे दों दिन से रेत खरीदने के लिए स्टोन क्रेशरों के चक्कर लगा रहे हैं परन्तु कहीं से भी रेत नहीं मिल रहा है जबकि सभी स्टोन क्रेशरो पर पर्याप्त मात्रा में रेत बजरी का स्टाक लगा हुआ है। स्टोेन क्रेशर मालिक बडे खरीदारों को महंगे दामों पर रेत,बजरी बेच रहे हैं। इतने महंगे दाम देकर रेत, बजरी खरीदना आम आदमी के बस की बात नहीं रह गई है। --हाक न्यूजलाईन

Tags:    
Share it
Top