Home > राज्य > उत्तराखण्ड > शराब के ठेके घनी आबादी में खुलने से आम जनता को भारी दिक्कत

शराब के ठेके घनी आबादी में खुलने से आम जनता को भारी दिक्कत

शराब के ठेके घनी आबादी में खुलने से आम जनता को भारी दिक्कत

बहादराबादः सुप्रीम कोर्ट के शराब के ठेके को आबादी से 200 मीटर और हाईवे से 500 मीटर दूर खोले जाने के आदेश की शराब माफिया और आबकारी विभाग की मिली भगत से घनी आबादी मे ही खेाले जाने से जनता को भारी दिक्कतो का सामना करना पड रहा है। यही कारण है कि आये दिन शराब के ठेके खोले जाने को लेकर ग्रामीणों और ठेकेदारों में भिडन्त हो रही है। महिलाओ नें शराब के ठेको को आबादी से दूर खोले जाने को लेकर पूरे क्ष्ेत्र मे आन्दोलन चला रखा है परन्तु शराब के ठेकेदार अपनी मनमानी कर आबादी के शान्त माहौल को खराब करने पर तुले हुए है।
ऐसा ही एक वाकया बहादराबाद मेें बहादराबाद माईनर के पास बनी कालौनी मे देखने को आया जहां शराब माफियाआंे ने ग्राम बौंगला के नाम से आंवटित देशी शराब के ठेके को बहादराबाद मे खोल दिया है जिसका भारी विरोध हो रहा है। ठेके को यहॉं से हटाने की मांग को लेकर ग्रामीणो ंने पुलिस को एक ज्ञापन देकर हटाने की मांग की है कि जिस स्थान पर ठेका खोला गया है वह घनी आबादी मे हैं जहॉं बच्चो के दो स्कूल और एक धार्मिक आश्रम भी हैं और कालौनी की महिलाओ को शराबियांे से भारी दिक्कत हो रही है । बताते चलें कि जिस स्थान पर ठेका खोला गया है वह हाईवे से मात्र 50 मीटर की दूरी पर है। ऐसे में शराब माफिया अपनी मनमानी कर गाव के शान्त माहौल को खराब करने पर उतारू हो रहे हैं। जिसे यहॉं से हटाया जाना जनहित मे हैं। ज्ञापन देने वालो ंमें संजय चौहान ममता धर्मेन्द्र बबिता अनुराग, शशि कुमार, सुनीता, राज कुमारी, रेखा देवी, गीता रानी आदि शामिल रहे। गौरतलब है कि इससे पहले भी कालौनी की महिलाओ ने स्थानीय विधायक आदेश चौहान को भी ठेका हटाये जाने की गुहार लगाई थी। परन्तु विधायक भी ठेके को हटावाने मे नाकामयाब रहे। ऐसे में जनता का जन प्रतिनिधियो से भी विश्वास उठने लगा हैं। शराब के ठेकेदार ने बीती रात महिलाओं पर शराब के ठेके पर तोडफोड करने की एक तहरीर पुलिस को देकर महिलाओ के खिलाफ कार्यवाही की मांग की है। परन्तु महिलाओ ने ठेकेदार द्वारा पुलिस को दी गई तहरीर पर कहा कि ठेकेदार जानबूझकर महिलाओं को डराना चाहता है तााकि वे ठेके का विरोध न कर सकें इसी कारण ठेकेदार ने पुलिस को ठेके मंे तोड़फोड़ किये जाने की तहरीर दी है। महिलाएं व ग्रामीण उक्त स्थान पर खुले ठेके को लेकर भारी आक्राश मंे हैं बतराते चलें कि जिस मार्ग पर शराब का ठेका खोला गया है वही मार्ग ग्रामीणों का सबसे व्यस्त मार्ग है इसी मार्ग से हरोकर महिलाएं अपने मवेशियों के लिए चारा लेे जाती हैं और माईनर से कपउे धोने व पशुओ को पानी पिलाने का काम करती हैं । अब यहॉं हर समय शराबी शराब पीकर गन्दी गन्दी गालियां देते हैं और आने जाने वाली महिलाओ के साथ अशलील फब्तियां कसते हैं जिस कारण पूरा क्षेत्र ठेके के विरोध मे खडा हो गया है। यदि समय रहते विभाग ने इस ठेके को यहॉं से स्थान्तरित नहीं किया तो महिलाएं उग्र आन्दोलन करने को बाध्य हो सकती है। --हाक न्यूजलाईन

Tags:    
Share it
Top