Top
Home > राज्य > उत्तराखण्ड > निर्माणदायी विभाग एवं कार्यदायी संस्थाये मुख्यमंत्री घोषणाओं के क्रियान्वयन में तेजी लायें: स्वाति भदौरिया

निर्माणदायी विभाग एवं कार्यदायी संस्थाये मुख्यमंत्री घोषणाओं के क्रियान्वयन में तेजी लायें: स्वाति भदौरिया

निर्माणदायी विभाग एवं कार्यदायी संस्थाये मुख्यमंत्री घोषणाओं के क्रियान्वयन में तेजी लायें: स्वाति भदौरिया
X

जिला कार्यालय सभागार कक्ष में हुई मुख्यमंत्री घोषणाओं की प्रगति समीक्षा बैठक

चमोली/थराली (दैनिक हाक): जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने गुरूवार को क्लेक्ट्रेट सभागार में मुख्यमंत्री द्वारा की गई घोषणाओं की प्रगति समीक्षा की। उन्होंने सभी निर्माणदायी विभागों एवं कार्यदायी संस्थाओं को मुख्यमंत्री घोषणाओं के क्रियान्वयन में तेजी लाने के निर्देश दिए। विभिन्न विकास योजनाओं को लेकर जिले में मुख्यमंत्री ने 166 घोषणाएं की है जिसमें से 61 घोषणाएं पूरी हो चुकी है तथा 105 पर कार्य प्रगति पर है। इसमें सबसे अधिक 56 में से 49 घोषणाएं लोक निर्माण विभाग के पास लंबित है। जबकि शहरी विकास विभाग में 7, सिंचाई की 6, शिक्षा की 6, पर्यटन की 3, जिला पंचायत की 4 घोषणाएं प्रगति पर है। वही अधिकांश घोषणाएं शासन स्तर पर भी लंबित है।

जिलाधिकारी ने लोक निर्माण विभाग, सिंचाई, पर्यटन, उद्यान, युवा कल्याण, स्वास्थ्य, शिक्षा, जिला पंचायत, ग्रामीण निर्माण आदि विभागों से सम्बन्धित सीएम घोषणाओं की अद्यतन जानकारी ली। उन्होंने कहा कि जिन विकास योजनाओं का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है उसकी आख्या तत्काल उपलब्ध करें और जिन नई घोषणाओं की डीपीआर अभी तक नही बनी है उनकी डीपीआर शीघ्र शासन को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। शासन स्तर पर लंबित प्रकरणों के लिए जिलाधिकारी ने अनुस्मारक प्रेषित करने और प्राथमिकता, समयबद्व एवं गुणवत्ता के साथ घोषणाओं पूरा करने पर जोर दिया। कहा कि मुख्यमंत्री घोषणाओं के क्रियान्वयन में किसी प्रकार की शिथिलता को गम्भीरता से लिया जाएगा। उन्हांेने कहा कि सड़कों के वन विभाग से सम्बन्धित वन भूमि हस्तान्तरण के जो मामले है उसकी भी सूचना अद्यतन रखें साथ ही जो मामले निस्तारित किए जाने है उनमें तेजी लाए।

जिलाधिकारी ने मुख्यमंत्री घोषणाओं के तहत संचालित कार्यो की भौतिक प्रगति संबधी अद्यतन रिपोर्ट उपलब्ध कराने के भी निर्देश दिए है। कहा कि जिन योजनाओं की डीपीआर नही बनाई गई है उनकी शीघ्र डीपीआर बनाकर शासन को भेजें। यदि कोई घोषणा विवादित है तो उनका निस्तारण करें। जिन घोषाणाओं की डीपीआर भेजी जा चुकी है और शासन से धनराशि नही मिली है उसके लिए अनुस्मारक भेंजे और जिन घोषणाओं में धनराशि अवमुक्त हो चुकी है उन योजनाओं की भौतिक प्रगति रिपोर्ट उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। जिलाधिकारी ने सभी कार्यदायी संस्थाओं को निर्देश दिए कि जो भी निर्माण कार्य कराए जा रहे है उसमें गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखें और साथ ही निर्धारित समय में निर्माण कार्यो को पूरा करें। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी हंसादत्त पाण्डे सहित संबधित विभागों एवं कार्यदायी संस्थाओं के अधिकारी उपस्थित थे।

Updated : 2020-11-20T19:05:11+05:30
Next Story
Share it
Top