Home > राज्य > उत्तराखण्ड > चैत्र नवरात्रों के आठवें दिन घर-घर में माता के भक्तों ने कन्याओं को जिमाया

चैत्र नवरात्रों के आठवें दिन घर-घर में माता के भक्तों ने कन्याओं को जिमाया

चैत्र नवरात्रों के आठवें दिन घर-घर में माता के भक्तों ने कन्याओं को जिमाया

बहादराबादः चैत्र नवरात्रों के आठवें दिन आज घर-घर में माता के भक्तों ने कन्याओं को जिमाया आज उन्हे उपहार भेंट कर मां का आशीर्वाद प्राप्त किया। आज के दिन भक्त माता की पूजा और उपवास को अष्ठमी के दिन पूर्ण करते हैं। उन्होंने माता के आठवंे नवरात्र को अपने व्रतों का परायण किया और कन्याओं को माता का रूप मान कर उनकी विधि विधान के साथ पूजा अर्चना की और उन्हें उपहार भेंट किये। दिन प्रारम्भ होते ही छोटी-छोटी कन्याएं सजधज कर घर-घर मंे जीमने के लिए गईं। कई भक्तांे ने तो कल रात को ही ऐसी कन्याओं को आज के लिए न्योता दे दिया था। कन्याएं भी उपहार पाकर खुश हुई और घर-घर जा कर भोजन किया। वहीं आज दोपहर को ही नवमी तिथि का आगमन होने जा रहा है जो कल प्रातः तक ही रहेगा। इस कारण भी आज दोनों तिथियों का पाठ और हवन किया गया। लेकिन कन्या जीमन कल प्रातः ही किया जायेगा। कल भी कन्याओं को भोजन कराया जायेगा जिसके लिए आज ही कन्याओ न्यौता दिया गया। कन्याएं उपहार को लेकर खूब प्रसन्न हो रही हैं। वहीं गत 7 दिनांे से मां के चले आ रहे व्रतों का आज उन भक्तांे ने परायण कर दिया जो अष्ठमी को व्रत पूर्ण करते हैं।
नवमी को राम जन्म नवमी भी मनायी जाती है। श्री राम का जन्म चैत्र शुक्ल नवमी को पुर्नवसु नक्षत्र में हुआ था। आज दोपहर 11 बजकर 21 मिनट से नवमी तिथि का आरम्भ हो रहा है और नवमी तिथि में पुर्नवसु नक्षत्र है। इसलिए भगवान श्री राम का जन्मोत्सव भी आज ही मनाया जाना उचित बताया गया है। श्री राम के भक्त आज श्री राम का जन्मोत्सव भी मनायेंगे। इसके लिए भी मन्दिरों को सुरूचीपूर्ण ढंग से सजाया गया है। वहीं नवरात्रो मे रात्रि जागरण का विषेश महत्व है। षास्त्रो ंमे कहा गया है कि नवरात्री का अर्थ ही माता के नौ दिन तक रात्रि जागरण से हैं। जिसमे भक्त जन रात्रि को भजन कीर्तन करते हैं। इसी परम्परा को अब जागरण का रूप दे दिया गया है। अनेक स्थानों पर रात्रि जागरण किये जा रहे हैं। यह क्रम आगामी चौदस तक जारी रहेगा। वहीं क्षेत्र के माता के मन्दिरो मे भही भक्तो का दर्शन के लिए जाना जारी है जिसमें शिवालिक पहाडियांे मंे जंगल के बीच स्थित मां सुरेश्वरी देवी, हरिद्वार का माता मनसा देवी मन्दिर, हरिद्वार का ही चण्डी देवी मन्दिर प्रसिद्ध है जहां भक्तजन मां के दर्शनों के लिए भारी संख्या मंे जा रहे हैं। कुल मिला कर पूरा क्षेत्र भक्तिमय बना हुआ है। --हाक न्यूजलाईन

Tags:    
Share it
Top