Home > मुख्य समाचार > शिक्षकों ने वेतन से संबंधित समिति की रिपोर्ट के खुलासे की मांग की

शिक्षकों ने वेतन से संबंधित समिति की रिपोर्ट के खुलासे की मांग की

 Agencies |  2017-04-09 06:41:52.0  0  Comments

शिक्षकों ने वेतन से संबंधित समिति की रिपोर्ट के खुलासे की मांग की

नयी दिल्ली : केंद्रीय विश्वविद्यालय शिक्षक संघ (फेडकुटा) ने विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के शिक्षकों के लिए गठित सातवें वेतन आयोग से जुड़ी समिति की रिपोर्ट सार्वजानिक करने की मांग की है ताकि इस पर राष्ट्रव्यापी बहस हो सके। फेडकुटा अध्यक्ष नंदिता नारायण ने आज यहां जारी एक बयान में यह मांग की। बयान के अनुसार फेडकुटा ने गत दिनों अपनी बैठक में एक प्रस्ताव पारित कर यह मांग की। बयान में कहा गया है कि 19 अप्रैल को देश भर के शिक्षक नए वेतनमान को लेकर मांग दिवस मनाएंगे। प्रस्ताव में आरोप लगाया गया है कि सातवें वेतनमान के लिए गठित समिति ने अपनी सिफारिशों को तय करने के सम्बन्ध में फेडकुटा और अखिल भारतीय विश्वविद्यालय शिक्षक संघ से कोई विचार-विमर्श भी नहीं किया। यह लोकतान्त्रिक प्रक्रिया की अवहेलना है जिससे पता चलता है कि सरकार किस तरह गैर लोकतान्त्रिक तरीके से चलती है और पारदर्शिता का पालन नहीं करती है। बयान में अकेडमिक अंक इंडेक्स (एपीआई) को वापस लेने तथा तदर्थ शिक्षकों को स्थाई करने की मांग की है। साथ ही विश्वविद्यालय अनुदान आयोग(यूजीसी) द्वारा शोध के लिए पत्रिकाओं की सूची को अपूर्ण बताते हुए उसमें कुछ महत्वपूर्ण पत्रिकाओं को शामिल करने की भी मांग की है और कहा है कि विश्वविद्यालय द्वारा निर्धारित पत्रिकाओं को भी शामिल किया जाये। फेडकुटा ने अपने प्रस्ताव में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में एम फिल और पी एच डी सीटों में कटौती की आलोचना भी की है। --वार्ता

Tags:    
Share it
Top