Top
Home > राष्ट्रीय > भारत ने लद्दाख में जारी विवाद के लिए चीन के नए बहाने को कर दिया खारिज

भारत ने लद्दाख में जारी विवाद के लिए चीन के नए बहाने को कर दिया खारिज

भारत ने लद्दाख में जारी विवाद के लिए चीन के नए बहाने को कर दिया खारिज

नई दिल्ली: भारत ने चीन की उस दावे को खारिज कर दिया है कि जिसमें ड्रैगन ने कहा कि 3488 किलोमीटर लंबी वास्तविक नियंत्रण रेखा पर बुनियादी ढांचों को अपग्रेड करने के कारण दोनों देशों के बीच तनाव की स्थिति बनी हुई है। भारत ने कहा है कि पीपुल्स लिबरेशन आर्मी पीएलए पहले से ही वहां मौजूद है और सीमा के उस पार सड़कों और संचार नेटवर्क का निर्माण जारी है।एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा पहले, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा सोमवार को उद्घाटन किए गए पुल एलएसी से दूर हैं और ये पुल नागरिकों की आवाजादी और सैन्य रसद पहुंचाने में मदद करेंगे। दूसरा, चीन ने कभी भी चल रही सैन्य-कूटनीतिक वार्ता में भारत के इन्फ्रास्ट्रक्चर अपग्रेड के मुद्दे को नहीं उठाया है। तीसरा, एलएसी के करीब सड़क, पुल, ऑप्टिकल फाइबर, सोलर-हीटेड हट्स और मिसाइल तैनाती के बारे में पीएलए का क्या कहना है उन्होंने कहा कि भारत केवल एलएसी के किनारे पर ही कोई निर्माण कर रहा है और इसके लिए हमें चीनी अनुमति की आवश्यकता नहीं है। भारतीय सेना की बढ़ी हुई क्षमता और एलएसी पर भी बढ़ी क्षमता भी पीएलए को पूर्वी लद्दाख में 1959 के कार्टोग्राफिक क्लेम लाइन के अनुसरण से रोकती है। चीन ने न केवल सीमा पर भारत पर दबाव डाला है, बल्कि अपनी गुटनिरपेक्ष स्थिति बनाए रखने के लिए और संयुक्त राज्य अमेरिका के करीब न जाने के लिए पर्याप्त रूप से निंदा भी कर रहा है। बीजिंग, अपनी ओर से मानता है कि यह एक अलग लीग से संबंधित है और उसने भारत को परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह एनएसजी संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का सदस्य बनने से रोक दिया है।


Updated : 15 Oct 2020 12:39 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top