Home > लाइफ स्टाइल > स्वास्थ्य और फिटनेस > याददाश्त बढ़ानी है तो रोज चलें 9 हजार कदम

याददाश्त बढ़ानी है तो रोज चलें 9 हजार कदम

याददाश्त बढ़ानी है तो रोज चलें 9 हजार कदम

लंदन: वैज्ञानिकों का मानना है कि रोजाना हल्की-फुल्की एक्सरसाइज बढ़ती उम्र में कमजोरी होती याददाश्त और बदलते व्यवहार को रोकने में मदद कर सकती है। हार्वर्ड मेडिकल स्कूल के शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि रोजाना 8,900 कदम चलने से अल्जाइमर की समस्या को कम किया जा सकता है। 182 लोगों पर हुए शोध में यह बात सामने आई है। जामा न्यूरोलॉजी जर्नल में प्रकाशित शोध के मुताबिक, ऐसे लोग जिनकी स्मृति में तेजी से कमी आ रही है उनके लिए रोजाना की वॉक फायदेमंद है। तेजी से घटती याद्दाश्त यानी अल्जाइमर बढ़ती उम्र की बीमारी है। वैज्ञानिकों का कहना है कि दिमाग में एमिलॉयड बीटा नाम के प्रोटीन का स्तर बढऩे पर ऐसी स्थिति बनती है। हार्वर्ड मेडिकल स्कूल के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. जसमीर चटमाल के मुताबिक, शारीरिक गतिविधि से याद्दाश्त को सुधारने के साथ ब्लड प्रेशर, मोटापा, स्मोकिंग, डायबिटीज के खतरे को कम किया जा सकता है। शोध में शामिल 182 लोग ऐसे हैं जिनके सोचने-समझने की क्षमता और याद्दाश्त को पिछते सात साल में दो बार जांचा गया था। इन्हें कदमों पर नजर रखने वाला पेडोमीटर पहनाया गया और 7 दिन तक रोजाना पैदल चलने का प्रभाव देखा गया।

Tags:    
Share it
Top