Home > जीवनशैली > स्वास्थ्य और फिटनेस > दर्द से कराहती जच्चा को सर्दी की रात में सीएचसी से जबरन लौटाया

दर्द से कराहती जच्चा को सर्दी की रात में सीएचसी से जबरन लौटाया

दर्द से कराहती जच्चा को सर्दी की रात में सीएचसी से जबरन लौटाया

-पीडि़ता ने गांव पहुंचकर दिया बेटी को जन्म

: गंगोह। एक ओर जहां सरकार नवजात शिशुओं और प्रसुताओं के स्वास्थ्य के प्रति पूरी तरह गम्भीर है। वहीं सीएचसी में लापरवाही का मामला प्रकाश में आया है। जिसमें न केवल गांव की आशा कार्यकर्ती वरन प्रसुति विभाग के स्टाफ ने दर्द होने के बावजूद जच्चा को सर्दी की रात में ही उनके गिड़गिड़ाने के बावजूद उनकी छुट्टी कर दी गई। जबकि गांव लौटते ही महिला ने बेटी को जन्म दे दिया। जिसे लेकर परिजनों व ग्रामीणों में बेहद रोष है, और उन्होंने इस बारे सीएमओ के अलावा जनप्रतिनिधियों से मिलकर अस्पताल में व्याप्त लापरवाही के खिलाफ जांच कराकर कार्यवाही की मांग की है।

ग्राम बालू निवासी सद्दाम अपनी पत्नी इशरत को प्रसव पीड़ा होने के चलते 29 नवंबर को सीएचसी लेकर गया था। सद्दाम के अनुसार पत्नी को प्रसव पीड़ा होने की बात पर अल्ट्रासाउंड करवाने की बात कही, अल्ट्रासाउंड के बाद अस्पताल पर मौजूद चिकित्सक ने अल्ट्रासाउंड देखकर उसके दर्द की परवाह किये बिना डेढ़ माह का समय बताकर उसे सर्दी की रात में ही जबरन घर लोटने को मजबूर कर दिया। जच्चा के अनुसार उसने व उसके पति ने दर्द की इंतहा की बात कहकर जनरल वार्ड में एडमिट करने की अपील की। लेकिन उपचार न कर उसे घर ले जाने की बात ही कहते रहे।जिससे मैने उनकी बात मानकर घर तक पत्नी को ले जाने के लिए एंबुलेंस तक नही दी।

बाद में अन्य व्यक्ति के कहने पर एंबुलेंस मिल सकी। सद्दाम ने बताया कि घर लोटने के लगभग दो घंटे बाद ही इशरत ने बेटी को जन्म दे दिया। जिससे उसे बेहद पीडा बर्दाश्त करनी पडी। सरकारी अस्पताल के डाक्टरों की लापरवाही उसकी जानलेवा साबित हो सकती थी। इतना ही बेटी के जन्म पर प्रसूता को सरकार की ओर से मिलने वाली सहयोग राशि भी न मिलने का खतरा बन गया है। पीडि़ता के पति ने सीएमओ के अलावा जनप्रतिनिधियों से मिलकर शिकायत करने की बात कही है। ग्राम प्रधान प्रतिनिधि मौलाना तनवीर कासमी का कहना है कि महिला बेहद गरीब हैं इसी कारण वह सरकारी अस्पताल में गई थी। लेकिन अफसोस है,कि उसको वहां भी एडमिट नही किया गया। जिसे लेकर ग्रामीणों में बेहद रोष व्याप्त हैं। इस बारे में सीएचसी प्रभारी रोहित वालिया से पूछा गया तो उन्होंने घटना के प्रति अनभिज्ञता जताते हुए जांच कराकर कार्यवाही की बात कही है।


Tags:    
Share it
Top