Home > अन्तरराष्ट्रीय > दहल ने संविधान में संशोधन के लिए ओली से मांगी मदद

दहल ने संविधान में संशोधन के लिए ओली से मांगी मदद

 Agencies |  2017-03-14 07:44:29.0  0  Comments

दहल ने संविधान में संशोधन के लिए ओली से मांगी मदद

काठमांडू: नेपाल के प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल 'प्रचंड' ने संसद में सविधान संशोधन बिल के लिए आज कम्युनिष्ट पार्टी ऑफ नेपाल (सीपीएन-यूएमएल) के अध्यक्ष के पी अोली से समर्थन देने की अपील की। काठमांडू पोस्ट में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक संयुक्त लोकतांत्रिक मधेसी मोर्चा (एसएलएमएम) द्वारा सरकार को स्थानीय चुनाव न कराये जाने और संविधान में संशोधन करने के लिए दिये गये सात दिन का अल्टीमेटम आज समाप्त हो गया है। सूत्रों के मुताबिक प्रधानमंत्री धहल ने श्री ओली से संविधान संशोधन के लिए अपना समर्थन देने का अनुरोध करते हुए कहा कि सरकार स्थानीय चुनाव को किसी भी हालत में स्थगित नहीं करेगी। श्री ओली ने हालांकि अपनी प्रतिबद्धता दाेहराया है कि वह संशोधन में संशोधन का समर्थन नहीं कर सकते हैं। यूएमएल ने यह सुनिश्चित किया है कि सरकार द्वारा पेश किए गए संविधान संशोधन विधेयक 'राष्ट्रीय हित के खिलाफ' है और यह वक्त संविधान में संशोधन का नहीं बल्कि चुनाव कराये जाने का है। प्रधानमंत्री के मीडिया सलाहकार गोविंद आचार्य ने कहा, "प्रधानमंत्री ने श्री ओली से संविधान में संशोधन कराये जाने को लेकर सरकार की मदद करने का अनुरोध किया है लेकिन श्री ओली अपने पहले के रूख पर कायम हैं।" प्रधानमंत्री दहल ने श्री ओली से कुछ योजनाओं के साथ आने का अनुरोध किया है ताकि इस गतिरोध को खत्म किया जा सके और चुनाव में मधेसी मोर्चा काे भी शामिल किया जा सके। इस बीच, मधेसी मोर्चा ने भविष्य की योजनाओं को लेकर मंगलवार को सचिवालय में बैठक का अाह्वान किया है। मोर्चा के नेता के मुताबिक बुधवार को पूर्ण समिति की बैठक होने की संभावना है जिसमें सरकार को समर्थन दिया जाय या वापस लिया जाय इसपर निर्णय लिया जायेगा। मोर्चा ने पहले ही राजेंद्र श्रेष्ठ के नेतृत्व में एक कार्यबल का गठन किया है जो प्रदर्शन की योजनायें तैयार करेगी। सरकार की अन्य सहयोगी सीपीएन (माओवादी सेंटर) और नेपाली कांगेस ने मधेसी मोर्चा के साथ समझौता किया है। --वार्ता

Tags:    
Share it
Top