Top
Home > शहर > सहारनपुर > निर्जला व्रत रख श्रद्धाभाव से मनाया लोक आस्था का छठ महापर्व

निर्जला व्रत रख श्रद्धाभाव से मनाया लोक आस्था का छठ महापर्व

निर्जला व्रत रख श्रद्धाभाव से मनाया लोक आस्था का छठ महापर्व
X

सहारनपुर (दैनिक हाक) : लोक आस्था के महापर्व छठ आज भी पूर्ण आस्था के साथ निर्जला व्रत रखकर श्रद्धालुओं ने अस्त होते सूर्य को अघ्र्य दिया और अपने बच्चों के दीर्घायु की कामना की। इस दौरान कोविड-19 की गाइड लाइन का अनुपालन किया गया।

शुक्रवार को नगर के नकुड़ रोड ग्राम मानकमऊ चौकी के सामने स्थित बड़ी नहर, बाबा लाल दास मार्ग स्थित लाल दास बाड़ा, पेपर मिल रोड स्थित मंदिर में तथा कुछ अन्य स्थानों पर बने घाटों पर श्रद्धालुओं ने अटूट आस्था के साथ अस्त होते सूर्य को अघ्र्य देकर बच्चों के सुखमय जीवन व उनकेदीर्घायु की कामना की। इस दौरान मण्डल परिक्षेत्र के पुलिस उपमहानिरीक्षक उपेन्द्र कुमार अग्रवाल भी घाट पर पहुंचे और परिजनों के साथ पूजा अर्चना कर अस्त होते सूर्य को अघ्र्य दिया। सभी घाटों पर मेला जैसा आयोजन देखने को मिला, जहां चारों ओर छठ मैय्या के साथ-साथ लोक गीत गूंज रहे थे, वहीं श्रद्धालु अपनी-अपनी आस्था के साथ-साथ पूजा अर्चना में व्यस्त देखे गये। पर्व को लेकर बच्चों में विशेष उत्साह बना हुआ था और घाटों पर रंग-बिरंगी रोशनी सभी के लिए आकर्षण का केन्द्र बनी हुई थी। श्रद्धालुओं की लगातार घाटों पर बढ़ती संख्या देख सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस प्रशासन द्वारा कडे सुरक्षा बन्दोबस्त किए गए। साथ ही नगर निगम द्वारा श्रद्धालुओं के लिए पथ प्रकाश व्यवस्था के साथ-साथ शिविरों के माध्यम से रहने की विशेष व्यवस्थाएं की गयीं, ताकि श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की असुविधा का सामना न करना पड़े। पूरे कार्यक्रम में कोविड-19 की गाइड लाइन का अनुपालन कराया गया। कई छठ व्रतियों ने अपने क्षेत्र के नजदीकी नदियों, तालाबों सहित अपने घरों में भी अघ्र्य दिया। घाटों पर छठ का अद्भुत नजारा देखने को मिला। व्रतियों का आना लगातार जारी रहा। सूर्य के अस्ताचल में जाने के उपरान्त व्रतियों उन्हें अघ्र्य दिया। कुछ लोग पैदल तो कुछ वाहनों से घाटों पर जाते देखे गये। सड़कों पर काफी भीड़ नज़र आयी। वाहनों के लिये जगह-जगह पार्किग स्थलों की व्यवस्था की गई। पूर्वाचंल के पुलिस प्रशासनिक अधिकारी भी घाटों पर पहुंचे और अपने परिजनो संग अस्त होते सूर्य को अघ्र्य दिया, वहीं सुरक्षा व्यवस्था का जायज़ा भी लिया। व्रतियों ने शुद्धता का ध्यान में रखते हुए धोए गए गेहूं के आटे से घी और चीनी डालकर ठेकुआ बनाया हुआ था जिसे सूप में तैयार पूजन सामग्री में सजाकर उसे पूरी पवित्रता से रखा गया। कुछ लोग नदियों के घाट पर ही परिवार समेत आकर रूके रहे, जो रविवार को प्रात:कालीन अघ्र्य देकर पूजा संपन्न होने के उपरान्त घर लौट जायेंगे। आज सुबह से ही छठ पूजा के लिए आवश्यक सामग्री, फल-फूल और सूप-दउड़ा खरीदने के लिए लोगों की काफी भीड़ देखी गई। पूर्वांचल कल्याण सभा के तत्वावधान में पांवधोई नदी स्थित आज श्रद्धालुओं ने अस्त होते सूर्य को अघ्र्य दिया सूर्यास्त के समय पूरा वातावरण छठ के गीतों से गुंजायमान हो रहा था। आज सूर्योदय के समय सूर्य उपासना होगी और उसके उपरांत छठ पूजा संपन्न होगी।

Updated : 20 Nov 2020 10:58 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top