Home > शहर > सहारनपुर > दामाद ने की ससुर व बेटे की गोली मारकर निर्मम हत्या

दामाद ने की ससुर व बेटे की गोली मारकर निर्मम हत्या

दामाद ने की ससुर व बेटे की गोली मारकर निर्मम हत्या

-घटना को अंजाम देकर स्वयं को भी गोली मारी

सहारनपुर: कस्बा रामपुर मनिहारान में एक युवक ने सनसनी खेज घटना को अंजाम देते हुए अपने मासूम बच्चे व ससुर की गोली मारकर हत्या कर दी और स्वयं भी गोली मारकर आत्महत्या कर ली। इस घटना से पूरे क्षेत्र में सनसनी फैल गयी। सूचना मिलते ही एसएसपी समेत आला अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचे और मामले की जानकारी लेते हुए मृतकों के शवों को कब्जें में ले पोस्टमार्टम को भिजवाया गया। थाना रामपुर मनिहारान क्षेत्र के गांव जानखेड़ा में ससुराल पहुंचे एक युवक ने आज सुबह अपने ससुर व मासूम बेटे की गोली मारकर हत्या कर दी और अपने को भीड़ से घिराकर पाकर स्वयं को भी गोली मार ली, जिसकी उपचार के दौरान जिला चिकित्सालय मे मौत हो गयी। बताया जाता है कि जानखेड़ा निवासी परशुराम की पुत्री मोनिका का विवाह 9 वर्ष पूर्व नकुड़ के गांव दैदपुर निवासी सचिन पुत्र बालचंद से हुआ था। शादी के एक साल बाद ही मोनिका अपने मायके आ गयी थी। यही उसने एक बेटे को जन्म भी दिया। बताया जाता है कि वर्ष 2०14 में सचिन ने अपने साले को भी गोली मारकर घायल कर दिया था, जिसमें उसे जेल भी जाना पड़ा था और उसका मुकदमा अभी भी न्यायालय मे विचाराधीन है। उसके बाद से ही सचिन अपने ससुरालियों को जान से मारने की धमकी दे रहा था। उसकी पत्नी मोनिका ने थाने में इसकी शिकायत भी की थी, लेकिन पुलिस ने मामला एनसीआर में दर्ज किया था। आज सुबह लगभग 7 बजे सचिन ने सनसनी वारदात को अंजाम देते हुए घर में सो रहे अपने 7 वर्षीय बेटे अंशुल पर ताबड़तोड़ पर गोलियां दागी, तो गोलियों की आवाज सुनकर पहुंचे उसके ससुर परशुराम पर भी उसने गोली दाग दी। जिस पर दोनों की मौके पर ही मौत हो गयी। गोलियों की तड़तड़ाहट सुन आसपास के ग्रामीण भी एकत्रित हो गए। भीड़ से अपने आपको घिरा पाकर सचिन घबरा गया और उसने अपने को भी गोली मारकर घायल कर दिया। जिसे आनन फानन में उपचार हेतु जिला चिकित्सालय भर्ती कराया गया, जहां उसकी उपचार के दौरान मौत हो गयी। बताया जाता है कि आज सचिन पूरेे ससुरालियों को निपटाने के मकसद से पहुंचा था, लेकिन उसकी पत्नी मोनिका व सास शिमला घेर में पशुओं को चारा डालने पहुंची थी, जिस कारण उनकी जान बच गयी। सूचना मिलते ही एसएसपी दिनेश कुमार पी, एसपी सिटी विनित भटनागर, सीओ नकुड़ जितेन्द्र नागर मौके पर पहुंचे और घटना की जानकारी ली। इस दौरान ग्रामीणों का आक्रोश फूट पड़ा और उन्होंने पुलिस पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा करते हुए कहा कि यदि पुलिस मोनिका की शिकायत को गंभीरता से लेती तो आज इतनी बड़ी घटना न होती। ग्रामीणों ने पीडि़त परिवार को आर्थिक सहायता दिये जाने की मांग करते हुए शवो को उठाने नहीं दिया। बाद में कैराना सांसद प्रदीप चौधरी व विधायक कीरत सिंह, पूर्व ब्लाक प्रमुख शिवराज सिंह व चौ.इन्द्रसैन मौके पर पहुंचे और उन्होंने ग्रामीणों को शांत करते हुए कहा कि मृतक आश्रितों को आर्थिक सहायता दिलायी जायेगी। साथ ही सांसद प्रदीप चौधरी ने मृतक की पत्नी मोनिका को सरकारी नौकरी दिलाने का भी आश्वासन दिया। पुलिस शवों को पोस्टमार्टम हेतु भिजवाया।


Tags:    
Share it
Top