Top
Home > शहर > हरिद्वार > हरकीपैड़ी की सीढ़ियों पर लिखित लिपियों का फ्रेमिंग कराकर चित्र गुरुकुल विवि पुरातत्व विभाग में संग्रह के रूप में रखा जाएगा

हरकीपैड़ी की सीढ़ियों पर लिखित लिपियों का फ्रेमिंग कराकर चित्र गुरुकुल विवि पुरातत्व विभाग में संग्रह के रूप में रखा जाएगा

हरकीपैड़ी की सीढ़ियों पर लिखित लिपियों का फ्रेमिंग कराकर चित्र गुरुकुल विवि पुरातत्व विभाग में संग्रह के रूप में रखा जाएगा
X

हरिद्वार (दैनिक हाक): हरकी पैड़ी पर खुदाई के दौरान सीढ़ियों पर लिखित लिपियों पर गुरुकुल कांगड़ी (समविश्वविद्यालय) हरिद्वार के प्राचीन भारतीय इतिहास, संस्कृति एवं पुरातत्व विभाग के प्रो0 प्रभात कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि पाकिस्तान वैश्य समुदाय द्वारा उद्धृत 200-300 वर्ष प्राचीन, में मुरली लिपि का अंकन है। वहीं दूसरी ओर देवनागरी लिपि भारतीय भू-भाग की लिपि, 400 से 500 वर्ष पुरानी है। उन्होंने कहा कि पुरातत्व के क्षेत्र में हरकी पैड़ी पर बहुत सारी लिपियों का पूर्व में अध्ययन किया गया है। पुरातत्व विभाग की टीम ने गुप्त काल की लिपियों को भी यहां पर खोजा है।

गुरुकुल कांगड़ी (समविश्वविद्यालय) हरिद्वार के कुलपति प्रो0 रूपकिशोर शास्त्री ने कहा कि धर्मनगरी हरिद्वार की हरकी पैड़ी अत्यन्त पुरानी धरोहर है। इस स्थान से पुरातत्व विभाग पहले भी पुरातत्व सम्बन्धी शोध कार्य को कर चुका है। जैसा कि पुरातत्व विभाग के प्राध्यापकों ने बताया है कि खुदाई के दौरान सीढ़ियों पर लिपियों का अंकन है। इस जानकारी को विस्तार से प्राप्त करने के लिए पुरातत्व विभाग के टीम को निर्देशित किया गया है। फिलहाल सीढ़ियों पर लिखित लिपियों का फ्रेमिंग कराकर चित्र पुरातत्व विभाग में संग्रह के रूप में रख दिया जाएगा।

गुरुकुल कांगड़ी (समविश्वविद्यालय) हरिद्वार के कुलसचिव प्रो0 दिनेश चन्द्र भट्ट ने कहा कि सनातन धर्म का तीर्थ स्थल हरकी पैड़ी है। आजादी से पूर्व बहुत से राजा महाराजाओं की छतरियां यहां पर स्थापित थी। जिन्हें अब मन्दिर का स्वरूप दे दिया गया है। इतिहास हमेशा अपने का दुहराता है। आज जिस लिपि की बात की जा रही है, वह सब हमारी प्राचीन धरोहर ही है। जिसे अब हम इतिहास के पन्नों में अंकित करने जा रहे है। जिन सीढ़ियों पर लिपियों का अंकन किया गया है। उन लिपियों का पुरातत्व विभाग द्वारा विश्लेषणात्मक अध्ययन किया जा रहा है। बहुत जल्द ही इन लिपियों की जानकारी समाज के सामने उजागर की जाएगी।

Updated : 2020-11-04T18:11:48+05:30
Next Story
Share it
Top