Home > शहर > हरिद्वार > मुख्यमंत्री के मोबाइल पर धमकी देने वाला दबोचा

मुख्यमंत्री के मोबाइल पर धमकी देने वाला दबोचा

मुख्यमंत्री के मोबाइल पर धमकी देने वाला दबोचा

-आधार कार्ड न बनने से परेशान होकर दी थी धमकी

-पूर्व में भी मुख्यमंत्री को नुकसान पहुंचाने की धमकी पर जा चुका हैं जेल

हरिद्वारः आखिर पुलिस ने मुख्यमंत्री के मोबाइल पर हरकी पौडी को बम से उड़ाने की धमकी देने वाले आरोपी को हरिद्वार से दबोच लिया। पूछताछ के दौरान आरोपी ने आधार कार्ड न बनने के कारण परेशान होकर मुख्यमंत्री के मोबाइल पर धमकी देने की बात को कबूला है। पुलिस के अनुसार वर्ष 2016 में थाना श्रीनगर में फोन कर मुख्यमंत्री को नुकसान पहुंचाने की धमकी देने पर जा चुका हैं जेल। आरोपी को रोजगार न मिलने के कारण दो सालों से वह अपने पत्नी व बच्चों से तक नहीं मिला है। पुलिस ने युवक की मानसिक स्थिति को देखते उसकी कॉउसलिंग कराये जाने की आवश्यकमा पर बल दिया है।

बताते चले कि बीते दिन मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत के मोबाइल पर 09 नवम्बर को दोपहर को अज्ञात द्वारा हरकी पौड़ी को बम से उड़ाये जाने की धमकी ने हड़कम्प मचा दिया था। जिस वक्त मुख्यमंत्री के मोबाइल पर धमकी दी गयी। उस वक्त मोबाइल उनके प्रोटोकॉल अधिकारी आनंद रावत के पास था, जिनके द्वारा बीते दिन फैक्स कर कोतवाली नगर में अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने जिस नम्बर से मुख्यमंत्री के मोबाइल पर धमकी दी गयी थी उस नम्बर को सर्विलास पर लगाया गया था। जिसकी लोकेशन बीते दिन विष्णु घाट तो कभी बिल्केश्वर मन्दिर के गेट के पास मिली। पुलिस ने तत्काल कार्यवाही करते हुए बिल्केश्वर मन्दिर के गेट के पास संदिग्ध हालत में खडे युवक को हिरासत में ले लिया। जिसकी तलाशी लेने पर पुलिस ने उसके पास से एक मोबाइल बरामद किया, जिसमें धमकी देने में इस्तेमाल किया गया सिम पाया गया। पुलिस ने युवक के पास से मिले बैग को खंगाला, मगर बैंग में कोई आपत्तिजनक चीज नहीं मिली। पुलिस संदिग्ध को कोतवाली लायी और उससे पूछताछ की गयी। आरोपी ने अपना नाम केशवानंद पुत्र विद्यादत्त निवासी ग्राम आन्ताखोली चाकीसैण्ड पट्टी कण्डारस्यू पौड़ी गढ़वाल हाल निवासी एमटी कॉलोनी प्रेमनगर देहरादून बताते हुए खुलासा किया कि वर्ष 2016 में उसको आधार कार्ड न बनने के कारण पौड़ी में लगे मुख्यमंत्री के जनता दरबार में गया था और आधार कार्ड न बनने के कारण गुस्से में उसने थाना श्रीनगर में 17 फरवरी 16 को फोन कर मुख्यमंत्री को नुकसान पहुंचाने की धमकी दी थी। जिसपर पुलिस उसको लुघियाना से गिरफ्रतार कर लिया था। इस मामले में वह एक साल तक जेल में रहा और जेल से निकलने के बाद इलाहाबाद चला गया। और एक सप्ताह पूर्व ही वह वहां से हरिद्वार पहुंचा है। लेकिन उसके पास कोई पहचान पत्र या आधार कार्ड न होने के कारण उसको स्थायी काम नहीं मिल पा रहा था जिसकारण उसको ध्याडी मजदूरी करके गुजारा करना पड रहा था। जिसकारण वह बेहद परेशान था जिसपर उसने मुख्यमंत्री का मोबाइल नम्बर प्राप्त कर 9 नवम्बर को हरकी पौडी को बम से उड़ाने की धमकी दी थी। पुलिस ने उसकी जानकारी जुटाई तो पता चला कि उसके तीन बच्चे और पत्नी हैं जिनसे वह दो सालों से मिला तक नहीं है। और गांव प्रधान सहित अन्य लोगों से भी विवाद चल रहा है। पुलिस अब मान कर चल रही हैं कि आरोपी की परिवारिक व व्यक्तिगत परिस्थितियों के कारण व परेशान था इसलिए उसको कॉउसलिंग कराने की अवश्यकता है। पुलिस ने आरोपी को धारा 41 सीआरपीसी का नोटिस दिया गया है। कोतवाली नगर प्रभारी निरीक्षक प्रवीण कोश्यारी के अनुसार मुख्यमंत्री के मोबाइल पर हरकी पौडी को बम से उड़ाने की धमकी देने वाले युवक को दबोच लिया। जोकि मानसिक रूप से परेशान निकला है। पूछताछ में आरोपी ने बताया कि उसका आधार कार्ड न बनने के कारण स्थायी रोजगार नहीं मिल पा रहा था। जिसकारण परेशान होकर धमकी दी। आरोपी पूर्व में भी मुख्यमंत्री को नुकसान पहुंचाने की धमकी मामले में जेल जा चुका है। आरोपी की परिवारिक व व्यक्तिगत परिस्थितियों के कारण व परेशान था इसलिए उसको कॉउसलिंग कराने की अवश्यकता है।


Tags:    
Share it
Top