Home > शहर > हरिद्वार > बच्चों से परेशान होकर मां ने ही कर दी मासूम की हत्या

बच्चों से परेशान होकर मां ने ही कर दी मासूम की हत्या

बच्चों से परेशान होकर मां ने ही कर दी मासूम की हत्या

-पुलिस को गुमराह करने के लिए गढ़ी अपहरण की झूठी कहानी

-पुलिस ने किया हत्यारिन मां को गिरफ्तार, हत्या में इस्तेमाल बैग किया बरामद

हरिद्वारः कनखल पुलिस ने छः माह के बच्चे के अपहरण की गुत्थी को सलझाते हुए हत्यारिन मां को गिरफ्तार कर लिया। मां ने ही बेटे से परेशान होकर गंगा में डुबाकर मौत के घाट उतार कर बहा दिया था और पुलिस को गुमराह करने के लिए बेटे के अपहरण का नाटक किया। पुलिस ने हत्यारिन की निशानदेही से मासूम की हत्या करने तथा शव को ठिकाने लगाने में इस्तेमाल बैग घर से बरामद कर लिया है। इस बात की जानकारी वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सैंथिल अबुदेई कृष्णराज एस ने कनखल थाना परिसर में पत्रकार वार्ता के दौरान दी। उन्हाेेंने बताया कि बीते दिन कंट्रोल रूम को सूचना मिली कि श्रीयंत्र घाट में एक मासूम का शव अटका हुआ है। सूचना पर कनखल पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मामले की जानकारी ली, जहां पर एक गुजरात के यात्री ने बताया कि उसने ही एक बच्चे के शव के अटके होने की सूचना कंट्रोल रूम को दी थी, लेकिन गंगा का बहाव तेज होने के कारण शव बह गया। मगर उसने अपने मोबाइल से मासूम के शव की फोटो ली है। यात्री ने फोटो पुलिस को उपलब्ध करा दी। उन्होंने बताया कि इसी दौरान कंट्रोल रूम को एक ओर सूचना प्राप्त हुई। जिसमें एक महिला संगीता बलूनी पत्नी दीपक बलूनी निवासी सर्वप्रिय विहार कॉलोनी स्थित सरला सदन जगजीतपुर कनखल ने बताया कि उसका छः माह का बेटा गायब हो गया हैं। इस सूचना पर पुलिस उस ओर दौड़ी, जहां पहुंचकर पीडिता से जानकारी ली गयी। पीडिता संगीता बलूनी ने बताया कि वह अपने बेटे अंश को 3 बजे घर में छोड कर पास ही डेयरी से दूध लेने गयी थी जबकि 3 साल की बेटी अराध्या छत पर थी। जब वह दूध लेकर घर लौटी तो बेटा लापता था।

एसएसपी ने बताया कि दिनदहाडे़ घर से बच्चे के अपहरण की घटना को गम्भीरता से लेते हुए पुलिस ने त्वरित कार्यवाही करते हुए मासूम की तलाश शुरू कर दी। पुलिस ने मासूम के पिता दीपक बलूनी की ओर से कनखल थाने में अपहरण का मुकदमा दर्ज कर तलाश शुरू कर दी। पुलिस ने आसपास के सीसीटीवी कैमरों को खंगाला गया। पुलिस को बच्चे के सम्बध में ऐसा कोई ठोस जानकारी नहीं लग सकी। जब पुलिस ने गंगा में मिले मासूम के शव की ओर नजर दौड़ाई और लापता हुए मासूम के घर से वहां तक पहुंचने वाले मार्ग के लोगों से पूछताछ की गयी। तब पुलिस को चौकाने वाली जानकारी हाथ लगी। पुलिस को जांच के दौरान पता चला कि दोपहर करीब ढाई बजे एक महिला भारी भरकम काले रंग का बैग लेकर गंगा घाट की ओर ले जाते देखा गया। और करीब सात मिनट बाद उसी महिला को खाली बैग लेकर वापस आते देखा गया। उन्होंने बताया कि जब उस मार्ग पर लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगाला गया तो पुलिस की आंखे खुली की खुली रह गयी कि संगीता बलूनी ही काले बैग के साथ देखी जा रही है। जब पुलिस ने महिला संगीता बलूनी से गंगा घाट की ओर जाने के सम्बंध में जानकारी जुटाई तो उसने इंकार कर दिया और पुलिस को गुमराह करने लगी। जब पुलिस ने महिला सहित उसके पति को सच्चाई से रूबरू कराया तो वह संगीता बलूनी ने जो घटना का खुलासा किया जिसको सुनकर पुलिस के होश उड़ गये। महिला ने बताया कि वह दोनों बच्चाें को नहीं सम्भाल पा रही थी और छोटे बच्चे से काफी परेशान थी। उसके शरीर में दर्द रहता था और दूध भी नहीं बन रहा था, जिससे छुटकारा पाने के लिए उसने सोते हुए बेटे को काले रंग के बैग में डालकर आनंदमयी पुलिया के पास नहर में गयी और वहां नहर में बेटे को डूबा दिया। जब उसकी मौत हो गयी, तो बेटे अंश को बैग से निकाल कर बहा दिया और वापस लौट आयी। पुलिस की कार्यवाही से बचने के लिए उसने मनगढत कहानी बनाकर पडौसियों को सुनाई और पुलिस को सूचित कर दिया। पुलिस ने हत्यारोपी मां को गिरफ्रतार कर लिया और उसकी निशानदेही पर घर से काला बैग भी बरामद कर लिया। जिसका इस्तेमाल कलयुगी मां ने मासूम की हत्या और शव को ठिकाने में किया था। प्रेसवार्ता के दौरान कनखल सीओ पूर्णिमा गर्ग, कनखल एसओ हरिओम राज चौहान आदि मौजूद थे।

Tags:    
Share it
Top