Home > शहर > हरिद्वार > कांग्रेसियों ने सरकार पर डेंगू की रोकथाम में विफलता का आरोप लगाया

कांग्रेसियों ने सरकार पर डेंगू की रोकथाम में विफलता का आरोप लगाया

कांग्रेसियों ने सरकार पर डेंगू की रोकथाम में विफलता का आरोप लगाया

हरिद्वारः कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत व भगवानपुर विधायक ममता राकेश के नेतृत्व में सरकार पर जनपद में जानलेवा ढंग से फैल रहे डेंगू की रोकथाम में विफलता का आरोप लगाते हुए सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय पर धरना दिया। कांग्रेस कार्यकर्ताओं की और से सिटी मजिस्ट्रेट के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन प्रेषित कर डेंगू के कारण जान गंवाने वाले मरीजों के परिजनों को पांच-पांच लाख रूपए मुआवजा तथा डेंगू से पीड़ित मरीजों को 50 हजार रूपए देने की मांग की। धरने को संबोधित करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि उत्तराखण्ड में जानलेवा साबित हो रहे डेंगू से अब तक कई मौते हो चुकी हैं। हरिद्वार जनपद के छापुर, शेर अफगानपुर, सिकंदपुर भैंसवाल सहित शहर में भी अब तक 22 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। उन्होंने कहा कि सरकार डेंगू की रोकथाम करने में पूरी तरह विफल साबित हुई है। अस्पतालों में न तो डेंगू की जांच के लिए पर्याप्त उपकरण हैं। ना ही चिकित्सक व अन्य सुविधाएं मरीजों को उपलब्ध हो रही हैं। डेंगू से प्रभावित मरीजों को सरकार ने भगवान के भरोसे छोड़ दिया है। दो दर्जन से अधिक लोगों की डेंगू से मौत होना सरकार की विफलता दर्शा रहा है।

भगवानपुर विधायक ममता राकेश ने कहा कि गांव से लेकर शहरों तक हजारों लोग डेंगू से प्रभावित हैं। सरकार मूक दर्शक बन तमाश देख रही है। अस्पतालों में ब्लड टेस्ट के नाम पर मरीजों का उत्पीड़न किया जा रहा है। सरकारी अस्पतालों में चिकित्सकों की भारी कमी के चलते जनता को निजी अस्पतालों में महंगा इलाज कराने को मजबूर होना पड़ रहा है। राज्य के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत पूरी तरह से विफल हो चुके हैं। अब तक जनपद के ग्रामीण क्षेत्रों में ही 22 लोग डेंगू के कारण जान गंवा चुके हैं। शहरों में भी कई लोगों की जान डेंगू के कारण गई है। पूरे जनपद में डेंगू महामारी का रूप ले चुका है। लेकिन सरकार गंभीरता नहीं दिखा रही है। जिला पंचायत उपाध्यक्ष राव आफाक अली ने कहा कि नगर निगम क्षेत्र में दवाईयों का छिड़काव तक नहीं किया जा रहा है। कांग्रेस पार्षदों के साथ सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि डेंगू की रोकथाम को लेकर अधिकारी कोई रूचि नहीं ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत डेंगू की रोकथाम को लेकर फेल हो चुके हैं। धरना देने वालों में मेयर अनीता शर्मा, सतपाल ब्रह्मचारी, बलराम राठौर, ओपी चैहान, संतोष चैहान, विमला पाण्डे, सुभद्रा आर्य, बीएस तेजियान, राजवीर सिंह चैहान, सीपी सिंह, विशाल राठौर, रोशन लाल, अमरदीप रोशन, हारून प्रधान, ठाकुर रतन सिंह, मनीष कर्णवाल, पूर्व विधायक तस्लीम अहमद, एडवोकेट राव फरमान, वीरेंद्र सिंह, महेंद्र सिंह, नसीम अब्बासी, चैधरी बलजीत सिंह, संजय सैनी, अमन कुमार, पवन त्यागी, तबरेज आलम, सुधीर, शहजाद खान, चैधरी कुलवीर सिंह, इमरान अली, अभिषेक, किरणपाल बाल्मिीकि, रवि बहादुर इंजीनियर, ठाकुर वीरेंद्र, सेठपाल परमार आदि सहित सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद रहे।


Tags:    
Share it
Top