Top
Home > अर्थव्यवस्था एवं व्यापार > लॉकडाउन के दौरान भी मुकेश अंबानी की रही धाक, हर घंटे कमा रहे हैं 90 करोड़ रुपये

लॉकडाउन के दौरान भी मुकेश अंबानी की रही धाक, हर घंटे कमा रहे हैं 90 करोड़ रुपये

लॉकडाउन के दौरान भी मुकेश अंबानी की रही धाक, हर घंटे कमा रहे हैं 90 करोड़ रुपये

नई दिल्ली: हूरन अमीरों की सूची 2020 में रिलायंस इंडस्ट्रीज (आरआईएल) के चेयरमैन मुकेश अंबानी लगातार नौवें साल टॉप पर काबिज हैं। 6,58,400 करोड़ रुपये की निजी संपत्ति के साथ वह देश के दुनिया के टॉप 5 धनकुबेरों में जगह पाने वाले एकमात्र भारतीय हैं। हूरन अमीरों की सूची में देश के वे अमीर शामिल हैं जिनकी संपत्ति 31 अगस्त, 2020 तक 1000 करोड़ रुपये या उससे अधिक थी। इस बार इस सूची में 828 भारतीयों को जगह मिली है। लंदन में रहने वाली हिंदूजा ब्रदर्स कुल 1,43,700 करोड़ रुपये की संपत्ति के साथ इस सूची में दूसरे स्थान पर हैं। एचसीएल के संस्थापक शिव नाडर 1,41,700 करोड़ रुपये की संपत्ति के साथ तीसरे, गौतम अदाणी और उनका परिवार चौथे तथा विप्रो के अजीम प्रेमजी पांचवें स्थान पर हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक भारत और एशिया के सबसे अमीर शख्स मुकेश अंबानी ने मार्च में लॉकडाउन लागू के बाद से हर घंटे 90 करोड़ रुपये की कमाई की है।सालाना रिपोर्ट के मुताबिक पिछले नौ साल में अंबानी की निजी संपत्ति 2,77,700 करोड़ रुपये से बढ़कर 6,58,400 करोड़ रुपये हो गई है। मुकेश अंबानी इस सूची में नौ साल से टॉप पर हैं। हाल में अमेरिका की प्राइवेट इक्विटी फर्म सिल्वर लेक ने रिलायंस रिटेल में 7,500 करोड़ रुपये का निवेश किया है। इस सौदे के लिए अंबानी की कंपनी की प्री-मनी इक्विटी वैल्यू 4.21 लाख करोड़ रुपये आंकी गई थी। अंबानी ने हाल में 20 अरब डॉलर की पूंजी जुटाकर रिलायंस को कर्ज मुक्त कर दिया है। इससे अंबानी को उस समय वित्तीय ताकत मिली है, जब कोविड-19 के कारण बाकी कंपनियां की हालत खस्ता है।

एवेन्यू सुपरमार्ट्स के फाउंडर राधाकिशन दमानी ने पहली बार देश के टॉप टेन धनकुबेरों में जगह बनाई है। इस सूची में वह सातवें नंबर पर हैं। टॉप 10 में इसके अलावा सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के साइरस एस पूनावाला, कोटक महिंद्रा बैंक के उदय कोटक, सन फार्मा के दिलीप सांघवी और शापूरजी पलोंजी ग्रुप के शापूरजी पलोंजी मिस्त्री शामिल हैं। इस सूची में शामिल 828 भारतीय अमीरों की कुल संपत्ति 821 अरब डॉलर (60,59,500 करोड़ रुपये) है। यह पिछली बार से 140 अरब डॉलर यानी 10,29,400 करोड़ रुपये अधिक है। इसकी एक बड़ी वजह रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयरों में आई तेजी है।


Updated : 29 Sep 2020 11:17 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top