Top
Home > अर्थव्यवस्था एवं व्यापार > भारत में वापसी को बेताब टिकटॉक, वापसी की रणनीति बनने में जुटी

भारत में वापसी को बेताब टिकटॉक, वापसी की रणनीति बनने में जुटी

भारत में वापसी को बेताब टिकटॉक, वापसी की रणनीति बनने में जुटी
X

नई दिल्ली : चाइनीज कंपनी बाइटडांस को उम्मीद है कि जल्द उसके अच्छे दिन आएंगे। ट्रंप प्रशासन की तरफ से बैन की धमकी के बाद कंपनी को उम्मीद है कि बाइडेन के नेतृत्व में थोड़ी राहत मिलेगी। इसके अलावा वह भारत में भी अपने ऊपर लगे बैन को हटाने की कोशिश में लगी है। सूत्रों के हवाले से इसकी जानकारी मिली है। दरअसल एलएसी पर विवाद के बाद भारत सरकार ने सुरक्षा का हवाला देकर जून के अंत में बाइटडांस के पॉप्युलर एप टिकटॉक समेत दर्जनों चाइनीज एप पर बैन लगा दिया था। भारत में लिए गए फैसले के बाद ट्रंप टिकटॉक पर बैन लगाने के पीछे पड़ गए थे। बाद में वे चाहते थे कि बाइटडांस यह बिजनेस किसी अमेरिकी कंपनी को बेचकर अमेरिका को अलविदा कह दे।

मिली जानकारी के मुताबिक, टिकटॉक ने फिर से वालमार्ट और ओरैकल के साथ बातचीत को आगे बढ़ाया है। कंपनी ने अपने ज्यादातर कर्मचारियों को रीटेन कर लिया है। भारत में कमबैक स्ट्रैटिजी को लेकर टिकटॉक के प्रवक्ता ने इनकार किया और ना ही स्वीकार किया। हालांकि उसने रूल्स ऑफ लैंड को लेकर कंपनी की गंभीरता को सामने रखा। टिकटॉक भारत में जून के महीने से बैन है। भारत में उसके करीब 2000 कर्मचारी हैं। बैन के बावजूद कंपनी ने कर्मचारियों को सितंबर महीने में कैश वाउचर गिफ्ट किया है। कंपनी ने भारत में किसी भी स्टॉफ की ना तो छंटनी की है और ना ही वेतन में कटौती की है। टिकटॉक के ग्लोबल बिजनेस का 20 फीसदी हिस्सेदारी वालमार्ट और ओरैकल मिलकर खरीदने वाली थी। अमेरिका और पूरे विश्व में ऑपरेशन के लिए बाइटडांस टिकटॉक ग्लोबल बनाने वाली थी। इसमें 80 फीसदी हिस्सेदारी बाइटडांस की होती। यही तमाम शर्तें ट्रंप को मंजूर नहीं थी और वे इस पर बैन लगाना चाहते थे।

Updated : 11 Nov 2020 10:18 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top